BIOGRAPHY

गोल्डन गर्ल दीपा कर्मकार की जीवनी Dipa Karmakar Biography Hindi

दीपा कर्मकार यह एक भारतीय कलात्मक जिमनास्ट है. कर्मकार ने पहली बार ध्यान आकर्षित किया जब उन्होंने ग्लासगो में 2014 राष्ट्रमंडल खेलों में कांस्य पदक जीता, खेलों के इतिहास में ऐसा करने वाली पहली भारतीय महिला जिमनास्ट बन गईं. उन्होंने एशियाई जिमनास्टिक्स चैंपियनशिप में कांस्य पदक भी जीता और 2015 विश्व कलात्मक जिमनास्टिक्स चैंपियनशिप में पांचवां स्थान हासिल किया.दीपा कर्मकार को गोल्डन गर्ल के नाम से भी जाना जाता है.Dipa Karmakar Biography Hindi

Dipa Karmakar Biography Hindi

गोल्डन गर्ल दीपा कर्मकार की जीवनी Dipa Karmakar Biography Hindi

करमाकर ने रियो डी जनेरियो में 2016 ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व किया, जो ओलंपिक में प्रतिस्पर्धा करने वाली पहली भारतीय महिला जिमनास्ट बन गई, और 52 वर्षों में ऐसा करने वाली पहली भारतीय जिमनास्ट. उन्होंने 15.066 के कुल स्कोर के साथ रियो में महिला वॉल्ट जिमनास्टिक्स स्पर्धा में चौथा स्थान प्राप्त किया.

दीपा कर्मकार का प्रारंभिक जीवन (Dipa Karmakar Early Life) :-

दीपा कर्मकार का जन्म त्रिपुरा राज्य के अगरतला में 9 अगस्त 1993 में हुआ. इन्होंने अपने पढ़ाई की शुरुआत उभयनगर के नजरुल स्मृती विद्यालय से की.जब दीपा कर्मकार सिर्फ 6 साल की थी तब से जिमनास्टिक का अभ्यास करना शुरू कर दिया था.और उसी समय से अपनी कोच विश्वेश्वर नंदी के निर्देशन में अभ्यास कर रही हैं. जिम्नास्टिक्स की कक्षा में पंजीकरण के समय दीपा फ्लैट फीट (Flat feet) की समस्या से ग्रस्त थीं. कोच नंदी के अनुसार फ्लैट फीट के कारण दीपा की उछाल में समस्या आ रही थी. इसको ठीक करना दीपा और उनकी कोच के लिए एक चुनौतीपूर्ण कार्य रहा.

दीपा कर्मकार का करियर (Dipa Karmakar Career) :-

2008 में, उसने जलपाईगुड़ी में जूनियर नेशनल जीता. 2007 से, दीपा ने राज्य, राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय चैंपियनशिप में 67 स्वर्ण सहित 77 पदक जीते. वह दिल्ली में 2010 के राष्ट्रमंडल खेलों में भारतीय जिम्नास्टिक की टुकड़ी का हिस्सा थीं.

फरवरी में, कर्मकार ने 2011 में भारत के राष्ट्रीय खेलों में भाग लिया, जिसमें त्रिपुरा का प्रतिनिधित्व किया. उसने चारों ओर और सभी चार आयोजनों में स्वर्ण पदक जीते.

जुलाई में, 2014 के कॉमनवेल्थ गेम्स में, दीपा ने अपने प्रोडुनोवा वॉल्ट के लिए काफी हद तक धन्यवाद करते हुए महिलाओं की वॉल्ट फ़ाइनल में कांस्य पदक जीता.  वह एक कॉमनवेल्थ गेम्स जिम्नास्टिक मेडल जीतने वाली पहली भारतीय महिला बनीं, और आशीष कुमार के बाद दूसरी भारतीय.

31 जुलाई – 2 अगस्त से हिरोशिमा में आयोजित एशियाई चैंपियनशिप में, दीपा ने बैलेंस बीम पर 8 वें स्थान पर रहते हुए महिलाओं की तिजोरी में कांस्य जीता.

अक्टूबर 2015 में, कर्मकार विश्व कलात्मक जिमनास्टिक चैंपियनशिप में अंतिम चरण के लिए क्वालीफाई करने वाली पहली भारतीय जिमनास्ट बन गयी. उसने फाइनल के लिए अपना स्थान सुरक्षित करने के लिए क्वालिफिकेशन राउंड  में तिजोरी पर 14.900 का स्कोर किया, जहाँ उसने 14.683 के दो-तिजोरी औसत के साथ 5 वां स्थान हासिल किया.

जुलाई 2018 में, दीपा एक वैश्विक कार्यक्रम में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय जिमनास्ट बन गयी, जब उन्होंने तुर्की के मेर्सिन में एफआईजी आर्टिस्टिक जिम्नास्टिक वर्ल्ड चैलेंज कप के वॉल्ट इवेंट में पहला स्थान हासिल किया.

कर्मकार भारत गणराज्य में चौथे सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार पद्म श्री की प्राप्तकर्ता हैं. रियो ओलंपिक 2016 में उनके प्रदर्शन के लिए, भारत सरकार ने उन्हें अगस्त 2016 में राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार से सम्मानित किया.

10 अगस्त 2016 को 2016 ओलंपिक टेस्ट इवेंट में, कर्मकार 14.833 के स्कोर के साथ ओलंपिक में अंतिम वॉल्ट इवेंट के लिए क्वालीफाई करने वाली भारत की पहली महिला जिमनास्ट बन गईं. वह कांस्य पदक से चूक गईं, 14 अगस्त 2016 को रियो डी जनेरियो, ब्राजील में जिमनास्टिक्स सेंटर में 15.066 के स्कोर के साथ फाइनल में चौथे स्थान पर रहीं.

पुरस्कार ( Awards ) :-

  • 2016 : राजीव गांधी खेलरत्न पुरस्कार
  • 2017 : पद्मश्री पुरस्कार
  • 2017 : 30 वर्ष से कम आयु के एशिया से फोर्ब्स की सुपर अचीवर्स की सूची में
  • द्रोणाचार्य पुरस्कार : उनके कोच बिशेश्वर नंदी को
  • गोल्ड : FIG कलात्मक जिमनास्टिक्स वर्ल्ड चैलेंज कप मेर्सिन, तुर्की में
  • कांस्य : जर्मनी के कॉटबस में FIG कलात्मक जिमनास्टिक विश्व कप

यह भी जरुर पढ़े :-

About the author

Srushti Tapase

मेरा नाम सृष्टि तपासे है और मै प्यारी ख़बर की Co-Founder हूं | इस ब्लॉग पर आपको Motivational Story, Essay, Speech, अनमोल विचार , प्रेरणादायक कहानी पढ़ने के लिए मिलेगी |
आपके सहयोग से मै अच्छी जानकारी लिखने की कोशिश करुँगी | अगर आपको भी कोई जानकारी लिखनी है तो आप हमारे ब्लॉग पर लिख सकते हो |

2 Comments

Leave a Comment

error: Content is protected !!