marathi mol

लाल बहादुर शास्त्री पर निबंध Essay On Lal Bahadur Shastri In Hindi

Essay On Lal Bahadur Shastri In Hindi लाल बहादुर शास्त्री भारत के दूसरे प्रधानमंत्री और एक बहुत सम्मानित राजनेता थे। स्वतंत्रता से पहले उन्होंने स्वतंत्रता संग्राम के दौरान महात्मा गांधी और जवाहरलाल नेहरू के साथ घनिष्ठ सहयोग में काम किया था। वह सरकारी अधिकारियों के बहुत विनम्र परिवार से ताल्लुक रखते थे और अपने परिवार के पहले राजनेता थे। बहुत कम उम्र से ही शास्त्री जी गांधी जी से प्रेरित थे और उन्होंने स्कूल से बाहर निकलकर असहयोग आंदोलन में भाग लिया।

Essay On Lal Bahadur Shastri In Hindi

लाल बहादुर शास्त्री पर निबंध Essay On Lal Bahadur Shastri In Hindi

लाल बहादुर शास्त्री पर निबंध Essay On Lal Bahadur Shastri In Hindi (100 शब्दों में )

लाल बहादुर शास्त्री एक महान राजनीतिक नेता थे। साथ ही, शास्त्री भारत के प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी थे। वह एक प्रसिद्ध व्यक्ति हैं और भारत को स्वतंत्रता मिलने के बाद दूसरे प्रधानमंत्री के रूप में जाने जाते हैं। लाल बहादुर शास्त्री ने गृह मंत्री, विदेश मंत्री और रेल मंत्री के रूप में कार्य किया। पूरा देश लाल बहादुर शास्त्री के नेतृत्व में विकास के पथ पर था।

लाल बहादुर शास्त्री को महात्मा गांधी की विचारधाराओं का बहुत शौक था। उन्होंने राष्ट्र की सेवा की और भारत की आजादी के बाद भी अपनी सच्चाई को कभी कम नहीं होने दिया। इसके लिए पूरी दुनिया ने उनकी प्रशंसा की।

लाल बहादुर शास्त्री पर निबंध Essay On Lal Bahadur Shastri In Hindi (200 शब्दों में )

लाल बहादुर शास्त्री भारत के महत्वपूर्ण नेताओं में से एक थे। जिन्होंने देश की स्वतंत्रता के लिए लड़ाई लड़ी और औरो को भी इस संघर्ष में शामिल होने के लिए प्रेरित किया। उनका जन्म 2 अक्टूबर 1904 को वाराणसी के पास मुगलसराय में हुआ था। लगभग 20 वर्ष की आयु में, वह स्वतंत्रता आंदोलन में शामिल हो गए।

वह गांधीजी के विचारों से बहुत प्रभावित थे। इसलिए, उसने अपने रास्ते पर चलने का फैसला किया। उन्होंने महात्मा गांधी के साथ कई आंदोलनों में भाग लिया। शास्त्री जी ने हमेशा सत्य और अहिंसा के मार्ग पर चलकर सभी विपत्तियों का सामना किया। भारत को अंग्रेजों के चंगुल से मुक्त कराना उनका एकमात्र लक्ष्य बन गया था और इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए उन्होंने हमेशा पूरी निष्ठा के साथ प्रयास किया।

स्वतंत्रता संग्राम के दौरान उन्हें कई बार जेल भी जाना पड़ा। इस दौरान, उन्होंने पूरे 9 साल कारावास में बिताए, लेकिन यह दुर्दशा उन्हें देश के स्वतंत्रता संग्राम से कभी पीछे नहीं हटा सकी। वह पंडित जवाहरलाल नेहरू के बहुत करीबी थे और इसलिए उनकी मृत्यु के बाद भारत के दूसरे प्रधानमंत्री बने।

शास्त्री जी की 11 जनवरी 1966 को दिल का दौरा पड़ने से मृत्यु हो गई, हालाँकि उनकी मृत्यु को कभी-कभी हत्या की साजिश के रूप में देखा जाता है।

लाल बहादुर शास्त्री पर निबंध Essay On Lal Bahadur Shastri In Hindi (300 शब्दों में )

लाल बहादुर शास्त्री का जन्म 2 अक्टूबर 1904 को हुआ था, हम सभी जानते हैं कि 2 अक्टूबर को गांधी जयंती का कार्यक्रम पूरे देश में धूमधाम से मनाया जाता है। लेकिन 2 अक्टूबर का यह दिन हमारे देश के दो महापुरुषों को समर्पित है। इस दिन न केवल गांधी जी, बल्कि लाल बहादुर शास्त्री जी की जयंती भी मनाई जाती है। इस दिन, लोग गांधी जी के विचारों के साथ शास्त्री जी की देशभक्ति और बलिदान को याद करते हैं। 2 अक्टूबर का यह विशेष दिन हमारे देश के दो महान नेताओं को समर्पित है, जो लाखों भारतीयों की प्रेरणा हैं।

लाल बहादुर शास्त्री जयंती का उत्सव

गांधी जयंती की तरह, देश भर के स्कूलों, कॉलेजों और कार्यालयों में लाल बहादुर शास्त्री जयंती मनाई जाती है। इस दिन, जबकि कई बच्चे गांधी की पोशाक पहने हुए स्कूलों में आते हैं, उनमें से कई जय जवान, जय किसान का नारा लगाते हुए आते हैं, लाल बहादुर शास्त्री का प्रसिद्ध नारा लगाते हैं।

उनके इस नारे ने देश की प्रगति के लिए दिन-रात काम करने वाले किसानों और सेना के जवानों को प्रोत्साहित करने का काम किया। उनका यह नारा वर्तमान समय में भी बहुत प्रसिद्ध है और इसका उपयोग सेना के जवानों और किसानों का मनोबल बढ़ाने के लिए किया जाता है।

इसके साथ ही, इस दिन कई प्रतियोगिताओं का भी आयोजन किया जाता है, यह  लाल बहादुर शास्त्री से संबंधित कई प्रश्न इन प्रतियोगिताओं में पूछे जाते हैं और उनके महान कार्यों और कठिन संघर्षों पर भाषण दिए जाते हैं।

निष्कर्ष

2 अक्टूबर का यह दिन हमारे लिए भारतीयों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि इस दिन हमारे देश के दो महान लोग पैदा हुए थे। जिन लोगों ने देश की स्वतंत्रता और विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया, इसलिए, यह दिन हमारे लिए एक दोहरे उत्सव का दिन है।

लाल बहादुर शास्त्री पर निबंध Essay On Lal Bahadur Shastri In Hindi (400 शब्दों में )

लाल बहादुर शास्त्री अपने समय में देश के सबसे लोकप्रिय नेताओं में से एक थे। उन्होंने महात्मा गांधी के नेतृत्व में स्वतंत्रता संग्राम में भी भाग लिया। उन्होंने हमेशा सत्य और अहिंसा की गांधीजी की नीतियों का पालन किया। स्वतंत्रता के बाद, उन्होंने कई महत्वपूर्ण राजनीतिक पदों पर रहे, जिसके दौरान लोगों ने उनकी ईमानदारी और भक्ति के लिए हमेशा उनकी प्रशंसा की।

लाल बहादुर शास्त्री भारत के प्रधान मंत्री के रूप में

पंडित जवाहरलाल नेहरू के आकस्मिक निधन के बाद, कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष के.के. कामराज ने अगले प्रधानमंत्री के रूप में शास्त्री के नाम का सुझाव दिया। जिस पर पार्टी के अन्य नेताओं ने उनका समर्थन किया और इस तरह शास्त्री जी देश के दूसरे प्रधानमंत्री बने।

जब शास्त्री जी ने राष्ट्रीय एकता और शांति को बढ़ाया

शास्त्री जी ने धर्मनिरपेक्षता के विचार को बढ़ावा दिया और देश की एकता और शांति व्यवस्था को बनाए रखा और साथ ही साथ अन्य देशों के साथ संबंधों को मजबूत करने के लिए भी काम किया।

उनके कार्यकाल के दौरान, नेहरू मंत्रिमंडल में कई मंत्रियों ने पहले की तरह अपनी जिम्मेदारियों को निभाया। इसके अलावा, शास्त्री जी ने सूचना और प्रसारण मंत्रालय का महत्वपूर्ण पद इंदिरा गांधी को सौंप दिया।

1964 से 1966 तक देश के प्रधान मंत्री के रूप में अपने छोटे से कार्यकाल के दौरान, उन्होंने कई कठिन परिस्थितियों का सामना किया, लेकिन अपने नेतृत्व कौशल और आत्मविश्वास के साथ वह हर बाधा को पार करने में कामयाब रहे।

शास्त्री द्वारा किया गया आर्थिक विकास

शास्त्री जी ने अपने कार्यकाल के दौरान देश की प्रगति और समृद्धि पर विशेष ध्यान दिया। उन्होंने देश में दूध उत्पादन बढ़ाने के लिए कई प्रयास किए। इसके लिए गुजरात में स्थित अमूल सहकारी को बढ़ावा देने के साथ-साथ उन्होंने देश में राष्ट्रीय दुग्ध विकास बोर्ड का गठन किया। उनके शासनकाल के दौरान, देश में खाद्य निगम भी स्थापित किया गया था।

अपने दो वर्षों के छोटे कार्यकाल के दौरान, उन्होंने देश के किसान और मजदूर वर्ग की स्थितियों में सुधार के लिए कई फैसले लिए। जिसने देश को प्रगति की एक नई दिशा दी।

निष्कर्ष

शास्त्री जी ने एक स्वतंत्रता सेनानी के साथ-साथ एक प्रधानमंत्री के रूप में भी देश की सेवा की, इसीलिए उनका हर भारतीय के दिल में इतना सम्मान है। देश के किसान और सिपाही के प्रति उनका सम्मान जय जवान, जय किसान के नारे में झलकता है, यही वजह है कि उनका नारा आज भी इतना प्रसिद्ध है।

लाल बहादुर शास्त्री पर निबंध Essay On Lal Bahadur Shastri In Hindi (500 शब्दों में )

लाल बहादुर शास्त्री ने अपना पूरा जीवन अनुशासन और सादगी से गुजारा। उनका जन्म वाराणसी के पास मुगलसराय में हुआ था। हालाँकि उनके परिवार का उस समय चल रहे स्वतंत्रता संग्राम से कोई संबंध नहीं था, लेकिन शास्त्री जी के दिल में देश प्रेम भरा था। यह राष्ट्र के लिए उनका प्यार था, जिसे उन्होंने इतनी कम उम्र में देश के स्वतंत्रता संग्राम में कूद दिया।

लाल बहादुर शास्त्री का प्रारंभिक जीवन

लाल बहादुर शास्त्री का जन्म 2 अक्टूबर 1904 को वाराणसी के एक हिंदू, कायस्थ परिवार में हुआ था। उनके पिता का नाम शारदा प्रसाद श्रीवास्तव था, जो पहले एक शिक्षक थे, लेकिन बाद में उन्हें इलाहाबाद के राजस्व कार्यालय में एक क्लर्क की नौकरी मिल गई। लेकिन यह विधि का विधान और उस समय का दुर्भाग्य था कि जब शास्त्री जी केवल एक वर्ष के थे, तब प्लेग के कारण उनके पिता की मृत्यु हो गई।

उनकी माता का सम्मान एक गृहिणी रामदुलारी देवी ने किया, जिन्होंने अपना पूरा जीवन अपने पति और बच्चों के लिए समर्पित कर दिया। इसके अलावा, शास्त्री जी की दो बहनें भी थीं, उनकी बड़ी बहन का नाम कैलाशी देवी और छोटी बहन का नाम सुंदरी देवी था। पिता की मृत्यु के कारण, शास्त्रीजी और उनकी बहनों को उनके नाना-नानी के घर लाया गया था।

लाल बहादुर शास्त्री की शिक्षा

लाल बहादुर शास्त्री ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा 4 साल की उम्र से शुरू की थी। उन्होंने पूर्व मध्य रेलवे इंटर कॉलेज, मुगलसराय से छठी कक्षा तक पढ़ाई की। छठी कक्षा की शिक्षा के बाद, उनका परिवार वाराणसी में स्थानांतरित हो गया। अपनी सातवीं कक्षा की पढ़ाई के लिए, उन्होंने हरिश्चंद्र इंटर कॉलेज में दाखिला लिया।

जब वे दसवीं कक्षा में थे, तो उन्होंने गांधीजी का एक व्याख्यान सुना, जिससे वे बहुत प्रभावित हुए। गांधीजी ने छात्रों से सरकारी स्कूलों से अपना प्रवेश वापस लेने और असहयोग आंदोलन में भाग लेने की अपील की। गांधीजी के विचारों से प्रभावित होकर शास्त्री ने हरिश्चंद्र हाई स्कूल से अपना दाखिला वापस ले लिया और उसके बाद उन्होंने देश की स्वतंत्रता आंदोलनों में सक्रिय रूप से भाग लिया, जिसके कारण उन्हें जेल भी जाना पड़ा।

लाल बहादुर शास्त्री का स्वतंत्रता संग्राम में योगदान

लाल बहादुर शास्त्री पंडित जवाहरलाल नेहरू के भी बहुत करीबी माने जाते थे, वे हमेशा उनके साथ स्वतंत्रता आंदोलनों में भाग लेते थे। उनकी सेवा और देश के प्रति निष्ठा के कारण, वह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं में से एक बन गए। देश की स्वतंत्रता के बाद, वह देश के रेल मंत्री भी बने, जिसके बाद उन्होंने गृह मंत्री के रूप में कार्यभार संभाला। 1964 में नेहरूजी की मृत्यु के बाद, उन्होंने भारत के दूसरे प्रधान मंत्री के रूप में पदभार संभाला, लेकिन दुर्भाग्य से वे केवल दो वर्षों तक ही भारत के प्रधान मंत्री बने रह सके, भारत के लाल बहादुर शास्त्री जी की मृत्यु 1966 में हुई।

निष्कर्ष

लाल बहादुर शास्त्री एक सच्चे देशभक्त और मजबूत इरादों वाले नेता थे। जिन्होंने अपना पूरा जीवन देश की सेवा में लगा दिया। वह अपने विनम्र स्वभाव और सरल जीवन के कारण देश के सबसे चहेते नेताओं में से एक माने जाते हैं।

लाल बहादुर शास्त्री पर निबंध Essay On Lal Bahadur Shastri In Hindi (600 शब्दों में )

लाल बहादुर शास्त्री का जन्म 2 अक्टूबर 1904 को एक मध्यमवर्गीय परिवार में हुआ था, हालाँकि उनका परिवार किसी भी तरह से स्वतंत्रता संग्राम से नहीं जुड़ा था। लेकिन यह उनका राष्ट्रीय प्रेम और देश के लिए कुछ करने की इच्छा थी, जिसने उन्हें देश के स्वतंत्रता संग्राम में ला खड़ा किया। उन्होंने कई स्वतंत्रता संग्रामों में भाग लिया और निस्वार्थ भाव से देश की सेवा की।

लाल बहादुर शास्त्री का पारिवारिक जीवन

शास्त्री का जन्म एक कायस्थ हिंदू परिवार में हुआ था। उनके पिता, शारदा प्रसाद शास्त्री, शुरुआती दौर में एक स्कूल शिक्षक थे, लेकिन बाद में उन्हें इलाहाबाद राजस्व विभाग में क्लर्क की नौकरी मिल गई। उनकी मां रामदुलारी देवी एक गृहिणी थीं। शास्त्री जी की दो बहनें थीं। जिन्हें कैलाशी देवी और सुंदरी देवी नाम दिया गया।

1928 में, 24 साल की उम्र में, लाल बहादुर शास्त्री का विवाह ललिता देवी से हुआ, जो उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर की रहने वाली थीं। यह शादी उनके परिवार ने तय की थी। दोनों का वैवाहिक जीवन काफी खुशहाल था। और साथ में उनके छह बच्चे थे, जिनमें चार बेटे और दो बेटियाँ शामिल थीं।

जब प्रेरणा महात्मा गांधी से मिली

जब लाल बहादुर शास्त्री स्कूल में थे, तब उन्होंने एक बार महात्मा गांधी का एक भाषण सुना, जिससे वे बहुत प्रभावित हुए। वे इस बात से बहुत प्रभावित हुए कि गांधीजी ने बिना हथियार उठाए और हिंसा करके ब्रिटिश शासन को कैसे हिला दिया। यह विचार उनके लिए प्रेरणा का स्रोत बन गया और उन्होंने गांधीजी के आंदोलन में भाग लेना शुरू कर दिया।

इसलिए, हम कह सकते हैं कि भारत के ये दो महापुरुष, महात्मा गांधी और लाल बहादुर शास्त्री, न केवल एक दिन पैदा हुए थे, बल्कि उनके विचार भी थे।

लाल बहादुर शास्त्री का राजनीतिक जीवन

शास्त्री जी कांग्रेस पार्टी के एक सम्मानित नेता थे और अपने राजनीतिक कार्यकाल के दौरान उन्होंने कई महत्वपूर्ण पदों पर रहे। जब भारत को 15 अगस्त 1947 को स्वतंत्रता प्राप्त हुई, तब शास्त्री जी को संयुक्त प्रांत (तत्कालीन उत्तर प्रदेश) के तत्कालीन पुलिस और परिवहन मंत्री का पदभार दिया गया था।

अपने राजनीतिक जीवन में उन्होंने हमेशा सच्चे दिल से देश की सेवा की और अपनी बुद्धिमत्ता से कई गंभीर और विकट परिस्थितियों का सामना किया। 1951 में शास्त्री अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव बने और उन्होंने इस जिम्मेदारी को बखूबी निभाया। इसके बाद 13 मई 1952 को उन्होंने देश के रेल मंत्री का पद भी संभाला।

1964 में पंडित जवाहरलाल नेहरू की आकस्मिक मृत्यु के बाद, शास्त्री जी ने भारत के प्रधान मंत्री के रूप में पदभार संभाला। देश के प्रधान मंत्री के रूप में, उन्हें जनता का बहुत स्नेह मिला। उन्होंने भारत की सामाजिक और आर्थिक प्रगति के लिए कई काम किए।

1966 में ताशकंद समझौते पर हस्ताक्षर करने के बाद, शास्त्री इस सदमे से सामना नहीं कर सके और दिल का दौरा पड़ने से उनकी मृत्यु हो गई। हालांकि, कई लोगों द्वारा संदेह व्यक्त किया जाता है और उनकी मौत को एक सोची समझी साजिश के तहत हत्या माना जाता है। लेकिन कोई ठोस सबूत नहीं है क्योंकि उसका पोस्टमार्टम नहीं किया गया था।

निष्कर्ष

शास्त्री जी एक ईमानदार राजनीतिक नेता और गांधीवादी विचारधारा पर पूरी तरह से विश्वास करने वाले लोगों में से एक थे। यह उन पर गांधीजी का प्रभाव था, जो वह इतनी कम उम्र में स्वतंत्रता आंदोलन में शामिल हो गए। उन्होंने हमेशा गांधीजी का अनुसरण किया और उनके आंदोलनों में भाग लिया। इसके साथ ही, उन्हें पंडित जवाहरलाल नेहरू के करीबी लोगों में से एक माना जाता था और इन दो महान व्यक्तियों ने मिलकर देश के कई लोगों को स्वतंत्रता संग्राम में शामिल होने के लिए प्रेरित किया।

यह भी जरुर पढ़े :-

Share on:

मेरा नाम सृष्टि तपासे है और मै प्यारी ख़बर की Co-Founder हूं | इस ब्लॉग पर आपको Motivational Story, Essay, Speech, अनमोल विचार , प्रेरणादायक कहानी पढ़ने के लिए मिलेगी | आपके सहयोग से मै अच्छी जानकारी लिखने की कोशिश करुँगी | अगर आपको भी कोई जानकारी लिखनी है तो आप हमारे ब्लॉग पर लिख सकते हो |

Leave a Comment

error: Content is protected !!