महात्मा गांधी पर उत्कृष्ट निबंध | Essay On Mahatma Gandhi

नीचे हमने महात्मा गांधी पर एक बहुत ही सरल लिखित निबंध प्रदान किया है, एक व्यक्ति जो हमेशा भारतीय लोगों के दिल में रहता है। भारत के हर बच्चे और बच्चे उन्हें बापू या राष्ट्र के पिता के नाम से जानते हैं। निम्नलिखित महात्मा गांधी निबंध का उपयोग करके, आप अपने बच्चों और स्कूल जाने वाले बच्चों को किसी भी प्रतियोगिता या परीक्षा के दौरान अपने स्कूल में बेहतर प्रदर्शन करने में मदद कर सकते हैं।महात्मा गांधी पर उत्कृष्ट निबंध | Essay On Mahatma Gandhi

 

Essay On Mahatma Gandhi

महात्मा गांधी पर उत्कृष्ट निबंध | Essay On Mahatma Gandhi

महात्मा गांधी एक महान स्वतंत्रता सेनानी थे जिन्होंने भारत की आजादी के लिए अपने पूरे जीवन को संघर्ष में बिताया था। उनका जन्म 1969 में गुजरात के पोरबंदर में भारतीय हिंदू परिवार में हुआ था। वह अपने पूरे भारतीय लोगों के नेता के रूप में रहते थे। उनकी पूरी जिंदगी कहानी हमारे लिए एक महान प्रेरणा है। उन्हें बापू या राष्ट्रपिता कहा जाता है क्योंकि उन्होंने अपनी आजादी के लिए ब्रिटिश शासन के खिलाफ लड़ाई में अपना जीवन बिताया था। अंग्रेजों के साथ लड़ते समय उन्होंने स्वतंत्रता प्राप्त करने के लिए अहिंसा और सत्याग्रह आंदोलनों जैसे अपने महान हथियारों की मदद ली। कई बार उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया और जेल भेजा गया, लेकिन उन्होंने कभी भी खुद को हतोत्साहित नहीं किया और राष्ट्रीय स्वतंत्रता के लिए लड़ाई जारी रखी।

महात्मा गांधी पर उत्कृष्ट निबंध | Essay On Mahatma Gandhi

वह हमारे देश का असली पिता है जिसने वास्तव में ब्रिटिश शासन से मुक्त होने के लिए अपनी सारी शक्तियों का उपयोग किया। उन्होंने वास्तव में लोगों (विभिन्न जातियों, धर्मों, समुदाय, जाति, आयु या लिंग से) में एकता की शक्ति को समझा, जिसे उन्होंने अपने स्वतंत्रता आंदोलन के माध्यम से उपयोग किया। आखिर में उन्होंने अंग्रेजों को 1947 में 15 अगस्त को अपने जन आंदोलनों के माध्यम से भारत छोड़ने के लिए मजबूर कर दिया। 1947 से, 15 अगस्त को हर साल भारत में स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाया जाता है।

वह 1947 में भारत की आजादी के बाद अपना जीवन जारी नहीं रख सके क्योंकि 1948 में 30 जनवरी को हिंदू कार्यकर्ता नथुराम गोडसे ने उनकी हत्या कर दी थी। वह महान व्यक्तित्व थे जिन्होंने मातृभूमि के लिए मृत्यु तक अपने पूरे जीवन की सेवा की। उन्होंने ब्रिटिश शासन से स्वतंत्रता की सच्ची रोशनी के साथ अपने जीवन को प्रबुद्ध किया। उन्होंने साबित किया कि अहिंसा और लोगों की एकता के साथ सबकुछ संभव है। कई साल पहले मरने के बाद भी, वह हर भारतीय के दिल में “राष्ट्र और बापू के पिता” के रूप में अभी भी जीवित है।

यह भी जरुर पढ़िए :-

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!