IAS TOPPERS

बिना कोचिंग लगाए बनी आईएएस टॉपर काजल जावला के सफ़लता की कहानी Success Story Of IAS Topper Kajal Jawla In Hindi

IAS Topper Kajal Jawla In Hindi हम सभी जानते है कि UPSC IAS भारत के सबसे कठिन परिक्षाओं में से एक है। इस परीक्षा में काजल जावला ने AIR 28 हासिल किया और एक टॉपर बनी। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि वैसे तो इस परीक्षा की तैयारी के लिए बहुत से बड़ी बड़ी कोचिंग पैसे लेकर तैयारी करवाती है, लेकिन काजल जावला ने इस परीक्षा को बिना कोचिंग किये ही पास किया है जोकि यह बहुत बड़ी बात है।

IAS Topper Kajal Jawla In Hindi

बिना कोचिंग लगाए बनी आईएएस टॉपर काजल जावला के सफ़लता की कहानी Success Story Of IAS Topper Kajal Jawla In Hindi

काजल एक साधारण भारतीय लड़की है। जिसने IAS 2018 में 28 वीं रैंक प्राप्त किया था। ये हरियाणा के शामली की रहने वाली है, इन्होंने मथुरा से इलेक्ट्रानिक संचार में बी.टेक किया है। इसके पश्चात इन्होंने एक मल्टी नेशनल कम्पनी में नौकरी कर ली। 2016 में इन्होंने रोहातक के आशीष मालिक से शादी कर ली, जो दिल्ली में अमेरिका दूतावास में काम करते थे।

इन्होंने जागरण जोश के साथ बातचीत में बताया था कि ये पिछले नौ साल से एक मल्टी नेशनल कंपनी में काम कर रही थी। जहाँ इन्हें 23 लाख रुपये का सालाना पैकेज मिलता था। लेकिन इनके मन में भारत की सेवा करने की महत्वाकांक्षा ने उन्हें आईएएस बनाने के लिए मजबूर कर दिया।

UPSC 2018 में 28 वीं रैंक पाने वाली काजल जावला के अनुसार, उनके लिए सबसे बड़ी चुनौती थी समय की कमी। क्योंकि वो 9 घंटे रोजाना जॉब करती थी और इसके बाद बचे समय में अपनी तैयारी करती थी। हालांकि, काजल ने कोचिंग का सहारा लिए बिना ही इन्होंने स्वयं अध्ययन से अपनी पांचवी प्रयास में 28 वीं रैंक प्राप्त करने में सफलता हासिल की।

जब ये छोटी थी तो इनका IAS की तरफ कोई झुकाव नही था। इनका तो बचपन से ही डॉक्टर बनाने के सपना था, लेकिन इनके भाग्य ने इनकी इस योजना को बदल दिया और इनका झुकाव आईएएस की तरफ हो गया। इनके पिता इनके आदर्श थे तथा ये डॉ एपीजे अब्दुल कलाम को अपने जीवन का आदर्श मानती थी।

वैसे तो इनके पास समय की कमी थी लेकिन इन्होंने अपने शौक को फिर भी नही छोड़ा। जब भी इनको समय मिलता तो ये अपने शौक को पूरा करती थी जैसे – इन्हें खाना बनाना पसंद था, ब्लॉक चेन तकनीक में रूचि थी, तथा इसके इन्हें अपने विचारों पर डायरी लिखना भी पसंद था।

IAS की तैयारी के लिए, काजल जी ने कहा है कि UPSC का पाठ्यक्रम एक महासागर की तरह है और IAS उम्मीदवारों को IAS पाठ्यक्रम की सीमाओं को जानना चाहिए। IAS की तैयारी के लिए रोज़ाना समाचार पत्र सबसे महत्वपूर्ण है इनके अनुसार IAS परीक्षा के सभी चरण में अलग-अलग रणनीति होनी चाहिए।

IAS प्रीलिम्स के लिए अधिक और स्पष्ट जानकारी होनी चाहिए। उम्मीदवारों को तथ्यों, उनके प्रभावों और अवधारणाओं के बीच भ्रमित नहीं होना चाहिए। IAS मुख्य परीक्षा में विषयों के बारे में गहरा और महत्वपूर्ण ज्ञान की आवश्यकता होती है जिससे IAS मुख्य परीक्षा में आसानी से आप हर सवाल का जवाब दे सके।

व्यक्तित्व परीक्षण यानी इंटरव्यू के लिए, संवेदनशील मुद्दों पर आपकी एक व्यापक दृष्टिकोण और सोच होनी चाहिए जो केवल अखबार पढ़कर ही आपको प्राप्त हो सकती है।

आईएएस रणनीति :-

GS के पाठ्यक्रम के सभी भागों के लिए ये NCERT पुस्तकों का अध्ययन करती थी जिससे मूल अवधारणाओं को साफ करने में मदद मिली। इन्होंने इतिहास के लिए आरएस शर्मा, भारत की राजव्यवस्था के लिए लक्ष्मीकांत, भूगोल के लिए गो चेंग लियोंग, मॉडर्न हिस्ट्री विषय के लिए स्पेक्ट्रम का अध्ययन किया था। और साथ में ही अखबार का अध्ययन भी करती थी। इन्होंने समाजशास्त्र NCERT का भी अध्ययन किया जिससे आईएएस परीक्षा में निबंध लिखने के लिए सामाजिक मुद्दों पर अपनी एक अलग राय बना सके।

इन्होंने अपनी दिनचर्या में सुबह और शाम को मिला कर रोज़ाना 3 घंटे अध्ययन करती थी, लेकिन सप्ताह के अंत में छुट्टी के दिन पूरे दिन अध्ययन करती थी। IAS प्रीलिम्स के लिए, इन्होंने करंट अफेयर्स और GS विषयों पर ज्यादा ध्यान दिया। इन्होंने IAS प्रारंभिक परीक्षा 2018 के लिए 2017 से वर्तमान मामलों का अध्ययन किया। जिससे IAS प्रारंभिक परीक्षा के लिए कोई भ्रम न रहे।

IAS की मुख्य परीक्षा के लिए, इन्होंने वैकल्पिक विषय – जूलॉजी (Zoology) को चुना। इन्होंने इनके पिछले वर्ष के प्रश्न पत्र अच्छे से विश्लेषण किया और अपनी मेंस की परीक्षा को दिया।

IAS इंटरव्यू के लिए, इन्होंने अपने विस्तृत आवेदन पत्र (DAF) को एक विस्तृत तरीके से तैयार किया। इन्होंने अपने नाम, मूल स्थान, पेशे, शौक और पसंद के विवरण को तैयार किया। जिससे इनको IAS इंटरव्यू में 201 अंक मिले।

काजल ज्वाला जी ने अपनी लगातार पांचवी प्रयास में इस परीक्षा को पास करके इसमें 28 वीं रैंक प्राप्त किया और उन लोगो के लिए एक मिसाल बन गई, जो जॉब करते हुए इस परीक्षा को पास करना चाहते है या बिना कोचिंग के।

और भी पढ़िए सफ़लता की कहानियाँ :-

About the author

Pramod Tapase

मेरा नाम प्रमोद तपासे है और मै इस ब्लॉग का SEO Expert हूं . website की स्पीड और टेक्निकल के बारे में किसी भी problem का solution निकलता हूं. और इस ब्लॉग पर ज्यादा एजुकेशन के बारे में जानकारी लिखता हूं .

Leave a Comment

error: Content is protected !!