आईएएस टॉपर  श्रेयांस कुमत के सफलता की कहानी IAS Topper Shreyans Kumat Success Story In Hindi

IAS Topper Shreyans Kumat Success Story In Hindi  राजस्थान के रहने वाले श्रेयांस कुमत एक मध्यम वर्गीय परिवार से आते हैं और इनके परिवार में से कोई भी सदस्य सिविल सेवा में नहीं रहा है। इसके बावजूद इन्होंने वर्ष 2018 में अपने पहले प्रयास में ही UPSC IAS की परीक्षा को पास किया और पूरे भारत में AIR 4 रैंक हासिल किया।

IAS Topper Shreyans Kumat Success Story In Hindi

आईएएस टॉपर  श्रेयांस कुमत के सफलता की कहानी IAS Topper Shreyans Kumat Success Story In Hindi

ये उनके और उनके परिवार के लिए बहुत ही सम्मान की बात है। किसी के लिए भी अपनी पहली प्रयास में इतनी बड़ी परीक्षा पास करना आसान बात नही है, क्योंकि लोगो की उम्र निकाल जाती है इस परीक्षा को पास करने में। लेकिन इनके will power, hardwork और सही मार्ग दर्शन की वजह से इन्होंने आईएएस की परीक्षा को पहली बार में पास कर लिया और उसमें टॉप भी किया।

श्रेयांस कुमत राजस्थान के अजमेर के पास किशनगढ़ के रहने वाले है। इन्होंने अपनी प्रारंभिक पढ़ाई किशनगढ़ से ही किया था। इन्होंने भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, बॉम्बे (IIT-B) से मैकेनिकल इंजीनियरिंग में अपनी स्नातक की पढ़ाई 2015 में पूरी की। इसके पश्चात इन्होंने लगभग दो वर्षों तक अर्नस्ट एंड यंग Ernst and Young (EY) कंपनी में काम किया।

इनका कहना है कि सिविल सेवा में आने का इनके रातों-रात का फैसला नही था। ये हमेशा से सिविल सेवा में आना चाहते थे। एक साल Ernst and Young (EY) कम्पनी में काम करने के बाद इन्होंने अपने करियर को सिविल सेवा के क्षेत्र ले जाने के बारे में सोचना शुरू किया। नौकरी के साथ ही इन्होंने लक्ष्मीकांत और बिपन चंद्र एनसीईआरटी जैसी बुनियादी पुस्तकों को पहले खुद से पढ़ा। एक साल खुद से तैयारी करने के इन्होंने अपनी नौकरी को छोड़ दिया और सिविल सेवा की तैयारी करने के लिए दिल्ली आ गये।

आप सभी को पता है कि इस परीक्षा में वैकल्पिक विषय चुनना बहुत ही कठिन काम है। श्रेयांस ने दिल्ली आने के बाद अपने वैकल्पिक विषय का अच्छे से विश्लेषण किया और सभी विषयों के पाठ्यक्रम की लंबाई, कवर करने के लिए आवश्यक समय, अपनी ताकत और कमजोरियों तथा विभिन्न वैकल्पिकों को देखते हुए इन्होंने अपने वैकल्पिक विषय के रूप में मानव शास्त्र (Anthropology) को चुना।

नौकरी छोड़ने के बाद इनके पास पढ़ाई करने के लिए पर्याप्त समय रहता था। इन्होंने दिल्ली में अपनी पूरी ताकत से पढ़ाई की और इन्होंने अपने पहले ही प्रयास में भारत के सबसे कठिन परीक्षा UPSC IAS में AIR 4 हासिल किया।

रणनीति :

अगर इनकी आईएएस की रणनीति की बात करें, तो ये पत्रकारों से बात करते हुए बताया है कि इसकी तैयारी की शुरुआत के लिए सबसे महत्वपूर्ण है ओवररचिंग प्लान और बुक लिस्ट/स्रोत सूची (booklist/source list)

ओवररचिंग प्लान :-

किसी की ताकत और उसकी कमजोरियों को सही समय पर तैयार करने के लिए ये बहुत आवश्यक है। इनके अनुसार ये याद रखने में बहुत अच्छे नही थे। इसलिए इनको पता था कि इनके मार्ग में बहुत सी कठिनाइयाँ आएँगी। ये बताते है कि इन्होंने अपनी तैयारी जून 2017 में शुरू किया और दिसम्बर तक इन्होंने केवल अपने वैकल्पिक विषय तथा साथ अन्य सामान्य पुस्तकों पर ही ध्यान दिया। उसके पश्चात इन्होंने अपने कोचिंग के नोट्स से पढ़ाई की। प्रीलिम्स के परीक्षा के पहले इन्होंने कुछ मॉक टेस्ट भी दिया।

बुकलिस्ट/स्रोत सूची (booklist/source list) :–

सिविल सेवा परीक्षा में ये बहुत ही महत्वपूर्ण है कि आप कौन सी किताब पढ़ रहे। श्रेयांस जी ने iasbaba के साथ अपनी बुकलिस्ट को साझा किया है, जो इस प्रकार है:-

  • भूगोल: एनसीईआरटी (XI, XII) + वाजीराम क्लास नोट्स + pmfias।com और श्रीनल वीडियो टेप भरने के लिए
  • आधुनिक इतिहास: एनसीईआरटी (बिपन चंद्र) + वजीराम क्लास नोट्स + वजीराम येलो बुक + स्पेक्ट्रम टेबल्स
  • प्राचीन और मध्यकालीन इतिहास + कला और संस्कृति: TN XI NCERT + ललित कला XI NCERT + वजीराम क्लास नोट्स + संस्कृति के लिए GkToday चयनात्मक नोट्स + पिछले परीक्षा के सवालों के लिए परीक्षा
  • राजनीति: लक्ष्मीकांत + वजीराम क्लास नोट्स + संविधान पुस्तक
  • अर्थव्यवस्था: वाजीराम क्लास नोट्स + मृणाल वीडियो + मैक्रो-अर्थशास्त्र एनसीईआरटी + बजट और आर्थिक सर्वेक्षण
  • पर्यावरण: शंकर IAS नोट्स + वजीराम क्लास नोट्स
  • विज्ञान और प्रौद्योगिकी: वजीराम क्लास नोट्स और पिछले वर्ष के प्रश्न पत्रों (PYQP) का विश्लेषण – अंतिम 5 वर्ष

इसके अलावा इन्होंने करेंट अफेयर्स के लिए द हिंदू समाचार पत्र पढ़ते थे। इसके अतिरिक्त ये विजन का मासिक संकलन भी पढ़ते थे।

आईएएस टॉपर श्रेयांस जी के अनुसार टेस्ट सीरिज़ हल करना बहुत ही आवश्यक है। इनका मानना है कि इसको हम करने से आपके अंदर आत्मविश्वास बढ़ता है, तथा आपको अपने ताकत और अपनी कमजोरियों के बारे में भी जानने को मिलता है। जिन्हें सुधार कर आप भी इनके जैसे इस परीक्षा में सफल हो सकते है।

और भी पढ़िए सफ़लता की कहानियाँ :-

Share on:

मेरा नाम प्रमोद तपासे है और मै इस ब्लॉग का SEO Expert हूं . website की स्पीड और टेक्निकल के बारे में किसी भी problem का solution निकलता हूं. और इस ब्लॉग पर ज्यादा एजुकेशन के बारे में जानकारी लिखता हूं .

Leave a Comment

error: Content is protected !!