महाराणा प्रताप के बारें में रोचक जानकारी Interesting Facts About Maharana Pratap

Interesting Facts About Maharana Pratap महाराणा प्रताप सिंह उदयपुर, मेवाड में सिसोदिया राजपूत राजवंश के राजा थे। उनका नाम इतिहास में वीरता और दृढ प्रण के लिये अमर है। उन्होंने कई सालों तक मुगल सम्राट अकबर के साथ संघर्ष किया। महाराणा प्रताप सिंह ने मुगलों को कईं बार युद्ध में भी हराया। उनका जन्म राजस्थान के कुम्भलगढ़ में महाराणा उदयसिंह एवं माता राणी जयवंत कँवर के घर हुआ था। लेखक जेम्स टॉड़ के अनुसार महाराणा प्रताप का जन्म मेवाड़ के कुंभलगढ में हुआ था ।

Interesting Facts About Maharana Pratap

महाराणा प्रताप के बारें में रोचक जानकारी Interesting Facts About Maharana Pratap

“महाराणा प्रताप को बचपन में कीका के नाम से पुकारा जाता था प्रताप इनका और राणा उदय सिँह इनके पिता का नाम था”

 

“प्रताप का वजन 110 किलो और हाईट 7 फीट 5 इंच थी”

 

“प्रताप का भाला 81 किलो का और छाती का कवच का 72 किलो था उनका भाला, कवच, ढाल और साथ में दो तलवारों का वजन कुल मिलाकर 208 किलो था”

 

“प्रताप ने राजनैतिक कारणों की वजह से 11 शादियां की थी”

 

“महाराणा प्रताप की तलवार कवच आदि सामान उदयपुर राज घराने के संग्रहालय में सुरक्षित हैं”

 

“अकबर ने राणा प्रताप को कहा था की अगर तुम हमारे आगे झुकते हो तो आधा भारत आप का रहेगा, लेकिन महाराणा प्रताप ने कहा मर जाऊँगा लेकिन मुगलों के आगे सर नही नीचा करूंगा”

 

“प्रताप का घोड़ा, चेतक हवा से बातें करता था उसने हाथी के सिर पर पैर रख दिया था और घायल प्रताप को लेकर 26 फीट लंबे नाले के ऊपर से कूद गया था”

 

“प्रताप का सेनापति सिर कटने के बाद भी कुछ देर तक लड़ता रहा था”

 

“प्रताप ने मायरा की गुफा में घास की रोटी खाकर दिन गुजारे थे”

 

“नेपाल का राज परिवार भी चित्तौड़ से निकला है दोनों में भाई और खून का रिश्ता हैं”

 

“प्रताप के घोड़े चेतक के सिर पर हाथी का मुखौटा लगाया जाता था ताकि दूसरी सेना के हाथी कंफ्यूज रहें”

 

“प्रताप निहत्थे दुश्मन के लिए भी एक तलवार रखते थे”

 

“अकबर ने एक बार कहा था की अगर महाराणा प्रताप और जयमल मेड़तिया मेरे साथ होते तो हम विश्व विजेता बन जाते”

 

“आज हल्दी घाटी के युद्ध के 300 साल बाद भी वहां की जमीनो में तलवारे पायी जाती हैं”

 

“ऐसा माना जाता है कि हल्दीघाटी के युद्ध में न तो अकबर जीत सका और न ही राणा हारे। मुगलों के पास सैन्य शक्ति अधिक थी तो राणा प्रताप के पास जुझारू शक्ति की कोई कमी नहीं थी”

 

“30 सालों तक प्रयास के बाद भी अकबर, प्रताप को बंदी न बना सका प्रताप की मौत की खबर सुनकर अकबर भी रो पड़ा था”

यह भी जरुर पढ़े :-

Share on:

मेरा नाम सृष्टि तपासे है और मै प्यारी ख़बर की Co-Founder हूं | इस ब्लॉग पर आपको Motivational Story, Essay, Speech, अनमोल विचार , प्रेरणादायक कहानी पढ़ने के लिए मिलेगी | आपके सहयोग से मै अच्छी जानकारी लिखने की कोशिश करुँगी | अगर आपको भी कोई जानकारी लिखनी है तो आप हमारे ब्लॉग पर लिख सकते हो |

Leave a Comment

error: Content is protected !!