Kathor Vachan Story In Hindi कठोर वचन पर हिंदी कहानी

आज हम आपको एक कहानी के बारे में बताने जा रहे है , जिसका मतलब होता है की आपको अपना दिया हुआ वचन कठोरता से निभाना चाहिए वरना वचन देने का क्या फायदा ? प्राण जाए पर वचन न जाए इस तरह निभाना चाहिये | Kathor Vachan Story In Hindi कठोर वचन पर हिंदी कहानी

Kathor Vachan Story In Hindi

Kathor Vachan Story In Hindi कठोर वचन पर हिंदी कहानी

एक बार गौतम बुद्ध से अभय राजकुमार ने प्रश्न किया कि क्या श्रमण गौतम कभी कठोर वचन कहते हैं? उसने सोच रखा था कि नहीं कहने पर वह बताएगा कि एक बार उन्होंने देवदत्त को नरकगामी कहा था और यदि हां कहे तो उसने पूछा जा सकता है कि जब आप कठोर शब्दों का प्रयोग करने से स्वयं को रोक नहीं पाते, तब दूसरों को ऐसा उपदेश कैसे देते हैं?

बुद्ध ने अभय के प्रश्न का आशय जान लिया। उन्होंने कहा, इसका उत्तर न तो हां में दिया जा सकता है और न नहीं में। अभय की गोद में उस समय एक छोटा बालक था। उसकी ओर इशारा करते हुए बुद्ध ने पूछा, ‘राजकुमार, यदि दाई के अनजाने में यह बालक अपने मुख में काठ का टुकड़ा डाल ले, तब तुम क्या करोगे?’

‘मैं उसे निकालने का प्रयास करूंगा।’

‘यदि वह आसानी से न निकल सकता हो तो?’

‘तो बाएं हाथ से उसका सिर पकड़कर दाहिने हाथ की उंगली को टेढ़ा करके उसे निकालूंगा।’

‘यदि खून निकलने लगे तो?’

‘तो भी मेरा यही प्रयास रहेगा कि वह काठ का टुकड़ा किसी न किसी तरह बाहर निकल आए।’

‘ऐसा क्यों?’

‘इसलिए कि भंते, इसके प्रति मेरे मन में अनुकंपा है।’

‘राजकुमार, ठीक इसी तरह तथागत जिस वचन के बारे में जानते हैं कि यह मिथ्या या अनर्थकारी है और उससे दूसरों के हृदय को ठेस पहुंचती है, तब उसका वे कभी उच्चारण नहीं करते। पर इसी तरह जो वचन उन्हें सत्य और हितकारी प्रतीत होते हैं तथा दूसरों को प्रिय लगते हैं, उनका वे सदैव उच्चारण करते हैं।

इसका कारण यही है कि तथागत के मन में सभी प्राणियों के प्रति अनुकंपा है।’

आपको यह Kathor Vachan Story In Hindi कैसे लगी इसके बारे में comment box में बता सकते हो | और इस कहानी को अपने दोस्तों से share भी कर सकते हो |

यह भी जरुर पढ़े :-

Share on:

मेरा नाम सृष्टि तपासे है और मै प्यारी ख़बर की Co-Founder हूं | इस ब्लॉग पर आपको Motivational Story, Essay, Speech, अनमोल विचार , प्रेरणादायक कहानी पढ़ने के लिए मिलेगी | आपके सहयोग से मै अच्छी जानकारी लिखने की कोशिश करुँगी | अगर आपको भी कोई जानकारी लिखनी है तो आप हमारे ब्लॉग पर लिख सकते हो |

2 thoughts on “Kathor Vachan Story In Hindi कठोर वचन पर हिंदी कहानी”

  1. yah bahut he achcha article likha hai aapne me to bas itna samjhta hu ki kathor vachan sirf thodi der tak bure lagta hai agar kisi achche vyakti ke dura diya ja rahe hai ro unko hum apne life me use karte hai to

Leave a Comment

error: Content is protected !!