SLOGANS

मजदूर दिवस पर नारे Slogans On Labour Day In Hindi

मजदूर दिवस को मई दिवस के रूप में भी जाना जाता है। यह हर साल 1 मई को मनाया जाता है और अंतर्राष्ट्रीय श्रमिक दिवस के रूप में राष्ट्रीय अवकाश के रूप में घोषित किया जाता है (पूरे विश्व में कई देशों में इसे अंतरराष्ट्रीय श्रमिक आंदोलन के रूप में मनाया जाता है)। इसे 1886 में शिकागो, अमेरिका में मजदूरों की हिंसक हड़ताल के बाद सालाना मनाया जाना शुरू किया गया था, जिसमें आठ घंटे के कार्यदिवस का आग्रह किया गया था।1904 में अंतर्राष्ट्रीय समाजवादी सम्मेलन, एम्स्टर्डम में सभी सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी, संगठनों और सभी देशों के ट्रेड यूनियनों की उपस्थिति में आठ घंटे के दिन की कानूनी स्थापना का आग्रह किया गया था। यह भारत में पहली बार 1923 में चेन्नई में मनाया गया था। अब, यह संगठनों और ट्रेड यूनियनों द्वारा बहुत सी गतिविधियों के साथ भारत में प्रतिवर्ष मनाया जाता है। Slogans On Labour Day In Hindi

Slogans On Labour Day In Hindi

मजदूर दिवस पर नारे Slogans On Labour Day In Hindi

जो अपना काम पूरी निष्ठा से करते है, देश के लिए कार्य करके उसके सपनों में रंग भरते है।

 

देश के कामगार अपनी मेहनत से देश को विकास के पथ पर आगे खींचते हैं, अपने कार्य से देश के तरक्की को सींचते है।

 

उम्मीद करता हूँ इस मजदूर दिवस पर सबकी मांगे हो पूरी, ना रह जाये किसी की इच्छाएं अधूरी।

 

सांमती शासको का राज गया अब है गणतंत्र की सरकार, मजदूर हो या व्यापारी सबको मिलना चाहिए उनका अधिकार।

 

कार्यो के लिए जैसी इच्छा लेते हो साक्षात्कार, तब हमें भी दो हमारी इच्छा का सेवाभार।

 

ना छीनो हमारे अधिकारों को सत्ता का ना करो तुम दंभ, क्योंकि देश में गणतंत्र के साथ हो चुका है नवयुग का आरंभ।

 

जब मिलेगा मजदूरो को उनका अधिकार और हटेगा हर भेद, तभी देश में तरक्की होगी और मिटेगा सभी के ह्रदयों से खेद।

 

देखो काम कर रहे हम दिन भर जीवन है हमारा व्यस्त, फिर भी ना जाने क्यों दूसरो के तरह हमको सुविधाएं ना मिल रही समस्त।

 

यदि किसी देश में मजदूर को पूरे अधिकार नही मिलते, तो उस देश की प्रगति रुक जाती है।

 

देश की तरक्की के लिए मजदूरों के अधिकारों को सुनिश्चित करना आवश्यक है।

 

यदि भारत में मजदूरो का दमन होगा, तो एक तरह से यह मानवाधिकारों का हनन होगा।

 

मजदूर दिवस पर यही है निश्चय-करेंगे एक-दूसरे का सहयोग, अपने हुनर को संवारकर देश के तरक्की में करेंगे इसका उपयोग।

 

जब देश के मजदूर और कामगार वर्ग को उनके अधिकार मिल जायेंगे, देश स्वंय उन्नत हो जायेगा।

 

आशा करता हूँ इस मजदूर दिवस हो सबकी समस्याएं समाप्त, सबकी हो इच्छाएं पूरी और जीवन में हो खुशी व्याप्त।

 

कामगर वह हैं जो मानते हैं अपने काम को अपना धर्म, इस दुनिया में सबसे प्रिय बस उनको अपना कर्म।

 

यह भी जरुर पढ़े :-

About the author

Srushti Tapase

मेरा नाम सृष्टि तपासे है और मै प्यारी ख़बर की Co-Founder हूं | इस ब्लॉग पर आपको Motivational Story, Essay, Speech, अनमोल विचार , प्रेरणादायक कहानी पढ़ने के लिए मिलेगी |
आपके सहयोग से मै अच्छी जानकारी लिखने की कोशिश करुँगी | अगर आपको भी कोई जानकारी लिखनी है तो आप हमारे ब्लॉग पर लिख सकते हो |

Leave a Comment

error: Content is protected !!