भाषण

ग्लोबल वॉर्मिंग पर भाषण | Speech On Global Warming In Hindi

ग्लोबल वार्मिंग पूरी दुनिया में लगातार बढ़ती पर्यावरणीय समस्या है। इसके कारणों के लिए कोई भी देश जिम्मेदार नहीं है, दुनिया भर के सभी देश अपने बढ़ते रहने के लिए ज़िम्मेदार हैं। ग्लोबल वॉर्मिंग पर भाषण | Speech On Global Warming In Hindi

Speech On Global Warming In Hindi

ग्लोबल वॉर्मिंग पर भाषण | Speech On Global Warming In Hindi

मेरे सम्मानित शिक्षकों और मेरे प्यारे दोस्तों को सुप्रभात। आजकल, हम में से प्रत्येक जलवायु परिवर्तन के खतरे से अच्छी तरह से अवगत है। ग्लोबल वार्मिंग की वजह से यह लगातार एक गंभीर मुद्दा है। पर्यावरण की इस अपरिवर्तनीय आपदाओं के बदलावों की सभी चुनौतियों का सामना करने के लिए हमारी भविष्य की पीढ़ियों के लिए यह एक बड़ा मुद्दा है। ग्लोबल वार्मिंग पृथ्वी के वायुमंडलीय तापमान में नियमित वृद्धि है। इससे पहले तापमान में वृद्धि की दर धीमी थी, हालांकि वर्तमान में यह तेजी से बढ़ रही है। ग्लोबल वार्मिंग के मुख्य कारण ग्रीन हाउस गैस जैसे नाइट्रस ऑक्साइड, कार्बन डाइऑक्साइड, मीथेन इत्यादि हैं। ऐसे गैसों को वातावरण में एकत्रित किया जाता है और मानव संसाधनों द्वारा बनाए गए सूर्य और गर्मी जैसे सभी संसाधनों से गर्मी जाल (जीवाश्म ईंधन, पेट्रोलियम जलती है) , वनों की कटाई, आदि)। ग्लोबल वार्मिंग कई तरह से हमारे ग्रह वायुमंडल को प्रभावित करती है।

पर्यावरण में तापमान बढ़ने के कारण, आर्कटिक हिमनद ध्रुवीय भालू के जीवन को पिघलने और धमकी देना शुरू कर देते हैं। पिघलने वाले ग्लेशियरों ने बहुत सारे पानी पैदा किए हैं जो दक्षिण सागर द्वीप के निम्न भूमि क्षेत्रों में समुद्र के स्तर को बढ़ाते हैं। महासागर के तापमान में वृद्धि से पौधों के जीवन और पानी के जानवरों के जीवन में समस्याएं पैदा होती हैं जिससे शैवाल मर जाता है और पूरे खाद्य श्रृंखला को परेशान करता है। ग्लोबल वार्मिंग के साइड इफेक्ट्स को कम करने के लिए कई देशों की सरकार द्वारा हानिकारक वाहन उत्सर्जन को सीमित करने, ओजोन परत को नुकसान पहुंचाने वाले रसायनों के उत्सर्जन को कम करने, पौधे काटने को कम करने, वृक्षारोपण को प्रेरित करने के लिए कई कानूनों को लागू और कार्यान्वित किया गया है। , कार पूलिंग, आदि |

डिस्पोजेबल के बजाए पुन: प्रयोज्य उत्पादों के उपयोग को चुनकर कचरे को कम करने के लिए हमें अपनी आदतों को सकारात्मक रूप से बदलना चाहिए। हमें कचरे की मात्रा को कम करने के लिए न्यूनतम पैकेजिंग वाले उत्पादों को खरीदना चाहिए। हमें पेपर, समाचार पत्र, चश्मा, एल्यूमीनियम के डिब्बे आदि का रीसायकल करना चाहिए। यदि हम आपके घरेलू कचरे का कम से कम आधा रीसाइक्लिंग शुरू करते हैं, तो हम हर साल लगभग 2,400 पाउंड कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन बचा सकते हैं। हमें हवा की स्थिति, हेयर ड्रायर, रूम हीटर इत्यादि जैसे विद्युत उपयोग की आवश्यकता को कम करना चाहिए। जब ​​हम बाहर जाते हैं तो हमें रात या दिन सोने पर रोशनी बंद करने की आदत बनाना चाहिए। हमें कॉम्पैक्ट फ्लोरोसेंट लाइट (सीएफएल) बल्ब के साथ हमारे नियमित बल्बों को प्रतिस्थापित करना चाहिए। नियमित प्रकाश बल्बों के बजाय सीएफएल का नियमित उपयोग वायुमंडल से करीब 90 अरब पाउंड ग्रीनहाउस गैसों को खत्म करने में मदद करेगा।

हमें कम हानिकारक गैस उत्सर्जन के लिए कम और बहुत ही स्मार्ट तरीके से ड्राइव करने की कोशिश करनी चाहिए। हमें बाइक, कार या परिवहन के अन्य साधनों के बजाय जितना संभव हो सके पैर से चलने की कोशिश करनी चाहिए। हमें अपने गर्म पानी के उपयोग को कम करना चाहिए और जितना संभव हो सके ठंडे पानी का उपयोग करने की कोशिश करें। इस तरह से हमारे बिजली के उपयोग को कम करके हम ग्लोबल वार्मिंग को कम कर सकते हैं। अपनी खुद की आदतों को बदलने के साथ, हमें दूसरों को जितना संभव हो सके रोशनी के उपयोग को कम करके ऊर्जा को बचाने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए।

धन्यवाद !!!!

About the author

Srushti Tapase

मेरा नाम सृष्टि तपासे है और मै प्यारी ख़बर की Co-Founder हूं | इस ब्लॉग पर आपको Motivational Story, Essay, Speech, अनमोल विचार , प्रेरणादायक कहानी पढ़ने के लिए मिलेगी |
आपके सहयोग से मै अच्छी जानकारी लिखने की कोशिश करुँगी | अगर आपको भी कोई जानकारी लिखनी है तो आप हमारे ब्लॉग पर लिख सकते हो |

2 Comments

Leave a Comment

error: Content is protected !!