BIOGRAPHY सफ़लता की कहानी

फर्श से अर्श तक का सफ़र तय करने वाले सुंदर पिचाई के सफ़लता की कहानी Sunder Pichai Biography In Hindi

Sunder Pichai Biography In Hindi सुंदर पिचाई किसी नाम के मोहताज नहीं है. बच्चे से लेकर हर उम्र के लोग इस इंसान को पहचानता है, जानते है. अपनी दूरगामी सोच के बल पर सफलता का वो मुकाम हासिल किया है, जिनके बारे में हम कभी सोच भी नहीं सकते है. ये सच है कि, सुंदर पिचाई आज जिस मुकाम पर हैं, ये सिर्फ और सिर्फ और उनकी सच्ची मेहनत और संघर्ष का ही नतीजा है. सुंदर पिचाई के सीईओ बनने का एलान साल 2015 में कर भारतीयों का सिर गर्व से ऊंचा कर दिया. तो चलिए आज हम आपको  सुंदर पिचाई से जुडी हर वो बाते बताने जा रहे है, जो आपके लिए एक प्रेरणा का स्रोत बन सकता है.

 

Sunder Pichai Biography In Hindi

सुंदर पिचाई के सफ़लता की कहानी Sunder Pichai Biography In Hindi

आरंभिक जीवन-

इनका जन्म 12 जुलाई, 1972 को चेन्नई में एक साधारण परिवार में हुआ था. शांत और सरल स्वभाव के सुंदर पिचाई जिनका पूरा नाम ‘सुंदर राजन पिचाई है’.सुंदर पिचाई के पिता चेन्नई के अशोक नगर में इलेक्ट्रिकल इंजीनियर थे. बचपन से ही अपनी क्लास के टॉपर स्टूडेंट रहे हैं.पिचाई की माँ स्टेनोग्राफर थी और इनके छोटे भाई के जन्म के बाद इन्होंने यह काम छोड़ दिया.

सुंदर पिचाई की शिक्षा-

पिचाई ने अपनी 12वीं तक की पढ़ाई चेन्नई के वाना-वाणी स्कूल से की. महज 17 साल की उम्र में सबसे अच्छे इंजीनियरिंग कॉलेज IIT खड़गपुर में दाखिला ले लिया. इन्होंने आई आई टी खड़गपुर से मैटलर्जिकल इंजीनियरिंग की. इसके बाद उन्होंने स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी से भौतिकी में मास्टर इन साइन्स किया. बीटेक में उन्होनें अपने बैच में टॉप किया और रजत पदक हासिल कर फिर से एक बार खुद को साबित कर दिखाया.

सुंदर पिचाई कस करियर-

2004 में गूगल से जुड़ने के बाद इन्होने एक छोटी सी टीम के साथ गूगल सर्च टूलबार पर कार्य किया. सुंदर पिचाई ने अपने विवेक के बल पर एंड्राइड ऑपरेटिंग सिस्टम के डेवलपमेंट और साल 2008 में लांच हुए गूगल क्रोम में भी अहम भूमिका निभाई है. सुंदर पिचाई ने अपने विवेक के बल पर एंड्राइड ऑपरेटिंग सिस्टम के डेवलपमेंट और साल 2008 में लांच हुए गूगल क्रोम में भी अहम भूमिका निभाई है.सुंदर पिचाई ने अपने विवेक के बल पर एंड्राइड ऑपरेटिंग सिस्टम के डेवलपमेंट किया.

और साल 2008 में लांच हुए गूगल क्रोम में भी अहम भूमिका निभाई है. इन्होंने गूगल के अन्य उत्पाद जैसे Google Gear तथा Google Pack पर भी कार्य किया. इन्होंने गूगल के अन्य उत्पाद जैसे Google Gear तथा Google Pack पर भी कार्य किया. अच्छे कार्य और लगन से प्रभावित होकर गूगल ने इन्हें 2012 में Chrome and Apps का सीनियर वाइस प्रेसिडेंट बना दिया.

Google के CEO बनने का सुनहरा अवसर पिचाई को 10 अगस्त 2015 को मिला, सुंदर पिचाई अपनी उपलब्धियों की उम्मीदों की उड़ान भर रहे थे. आखिरकार पिचायी उन लोगों में शामील हो गये है जो 400 अरब डॉलर कारोबार करने वाली अंतराष्ट्रीय कम्पनियों के शिर्ष अधिकारी है.

निजी जीवन-

पिचाई ने अपनी आई आई टी खड़गपुर की क्लासमेट और गर्लफ्रेंड अंजलि से शादी करी और आज इनके दो सुंदर बच्चे एक लड़का और एक लड़की हैं.

यह भी जरुर पढ़े :-

About the author

Srushti Tapase

मेरा नाम सृष्टि तपासे है और मै प्यारी ख़बर की Co-Founder हूं | इस ब्लॉग पर आपको Motivational Story, Essay, Speech, अनमोल विचार , प्रेरणादायक कहानी पढ़ने के लिए मिलेगी |
आपके सहयोग से मै अच्छी जानकारी लिखने की कोशिश करुँगी | अगर आपको भी कोई जानकारी लिखनी है तो आप हमारे ब्लॉग पर लिख सकते हो |

Leave a Comment

error: Content is protected !!