BIOGRAPHY

भारतीय राजनीति की प्रखर वक्ता और कुशल नेता सुषमा स्वराज का जीवन परिचय Sushma Swaraj Biography In Hindi 

Sushma Swaraj Biography In Hindi सुषमा स्वराज जी इंदिरा गांधी जी के बाद भारत की दूसरी महिला हैं, जिन्होंने राजनीति में कदम रखा। ये एक राजनेता के साथ – साथ सुप्रीम कोर्ट की पूर्व वकील भी रह चुकी हैं। सुषमा स्वराज एक भारतीय राजनेत्री और भारतीय जनता पार्टी की सदस्या हैं।आज के समय में महिलाएं हर क्षेत्र में अपनी पहचान बना रही है, लेकिन एक समय था जब महिलाओं को घर बाहर तक निकलने नहीं दिया जाता था। लेकिन कहते हैं बदलाव जरुर आता है। आज महिलाएं घर के साथ-साथ देश के विकास में भी योगदान दे रही है। इन्ही बदलाव का उधारहण सुषमा स्जीवराज है, जो बेहद कम उम्र में हरियाणा की कैबिनेट मंत्री बनी। तो चालिए आज जानते है सुषमा स्वराज के जीवनी के कुछ अंश।

Sushma Swaraj Biography In Hindi

सुषमा स्वराज का जीवन परिचय Sushma Swaraj Biography In Hindi

जन्म एवं परिचय : 

सुषमा स्वराज का जन्म 14 फरवरी 1952 में अम्बाला में हुआ था। सुषमा स्वराज के पिता श्री हरदेव शर्मा राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ के प्रमुख सदस्य थे। जिस वजह से सुषमा स्वराज ने अपने आसपास संघ और राजनीति का असर शुरु से देखा। हालांकि सुषमा स्वराज ने अपने पिता से अलग अपने दम पर अपनी पहचान बनाई। सुषमा स्वराज ने चंडीगढ़ में पंजाब विश्वविद्यालय के कानून विभाग से एलएलबी की डिग्री हासिल की। 1970 में इन्होंने, अंबाला छावनी के एसडी कॉलेज से सर्वश्रेष्ठ छात्रा का पुरस्कार प्राप्त किया। सुषमा स्वराज को लगातार तीन वर्षों तक एस.डी.कॉलेज के एनसीसी की सर्वश्रेष्ठ सैनिक छात्रा घोषित किया गया।

सुषमा स्वराज की शिक्षा – Sushma Swaraj Education

सुषमा स्वराज जी हरियाणा के अंबाला में ही पली बढ़ी. यहीं से उन्होंने छावनी के सनातन धर्म कॉलेज में शिक्षा प्राप्त की, और वहाँ पर सुषमा जी ने संस्कृत और राजनीतिक विज्ञान में स्नातक की डिग्री हासिल की. अपना स्नातक पूरा करने के बाद में सुषमा जी ने पंजाब विश्वविद्यालय चंडीगढ़ में कानून की पढ़ाई करने के लिए दाखिला लिया. और कानून की पढ़ाई पूरी कर डिग्री हासिल की. सुषमा स्वराज कॉलेज के दिनों में एनसीसी की सर्वोच्च कैडेट भी रही।

सुषमा स्वराज का व्यक्तिगत जीवन :-

जब भारत में इमरजेंसी का दौर चल रहा था उस समय 13 जुलाई 1975 को सुषमा जी ने स्वराज कौशल के साथ शादी की. स्वराज कौशल जी भारत के सर्वोच्च न्यायालय में एक सहकर्मी और साथी वकील हैं. आपातकाल आन्दोलन के समय वे दोनों एक साथ आये, और उन्होंने तब समाजवादी नेता जॉर्ज फ़र्नांडिस की रक्षा के लिए एक टीम बनाई. सुषमा जी की एक बेटी भी है, जिन्होंने लंदन यूनिवर्सिटी से अपनी स्नातक की पढ़ाई की, और फिर वहीँ के इनर टेम्पल कॉलेज से कानून में बैरिस्टर की डिग्री हासिल कर वे वकील बन गई.

Sushma Swaraj Biography In Hindi

सुषमा स्वराज ने स्वराज कौशल (Sushma Swaraj Husband) से शादी की है। स्वराज कौशल सुषमा स्वराज के साथ सुप्रीम कोर्ट में अधिवक्ता के पद पर कार्यरत थे। स्वराज कौशल सबसे कम उम्र में राज्यपाल का पद प्राप्त करने वाले व्यक्ति है। वह मिजोरम के राज्यपाल रहे है।

स्वराज कौशल 6 साल तक राज्यसभा सांसद भी रहे है। स्वराज दम्पति की उपलब्धियों के लिए उनका नाम लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी दर्ज किया गया है। सुषमा स्वराज और स्वराज कौशल की एक बेटी है जिसका नाम बांसुरी (Sushma Swaraj Daughter) है बांसुरी लंदन के इनर टेम्पल में वकालत की पढ़ाई कर रही है।

सुषमा स्वराज राजनैतिक सफ़र – Sushma Swaraj Political Career

आपतकाल से लोगों की स्थिति को बहुत खराब थी। इसी को देखते हुए सुषमा स्वराज ने भी जयप्रकाश नारायण के आंदोलन का हिस्सा बने का फैसला लिया। सुषमा स्वराज ने इस आन्दोलन में बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया।

इसके बाद सुषमा स्वराज का राजनीतिक सफर शुरु हुआ। उन्होनें जनसंघ पार्टी को ज्वाइन किया जिसे आज भारतीय जनता पार्टी के नाम से जाना जाता है।

राजनीति में आने से पहले सुषमा स्वराज ने सुप्रीम कोर्ट में अधिवक्ता के पद पर भी काम किया। सुषमा स्वराज को राजनीतिक दल की पहली महिला प्रवक्ता बनने का सम्मान भी प्राप्त है।उन्होंने जयप्रकाश नारायण के संपूर्ण क्रांति आंदोलन में सक्रिय रूप से हिस्सा लिया. आपातकाल के बाद सुषमा जी भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गईं और बाद में भाजपा की राष्ट्रीय नेता के रूप में उभरी.

सुषमा स्वराज की प्रमुख उपलब्धियां :-

  • 1977 में जब वह 25 साल की थीं तब वह भारत की सबसे कम उम्र की कैबिनेट मंत्री बनी थीं।
  • 1979 में, 27 साल की उम्र में, वह हरियाणा में जनता पार्टी की राज्य अध्यक्ष बनीं।
  • सुषमा स्वराज को राष्ट्रीय स्तर की राजनीतिक पार्टी की पहली महिला प्रवक्ता होने का गौरव प्राप्त है।
  • वह पहली महिला मुख्यमंत्री भी हैं।
  • वह पहली महिला केंद्रीय कैबिनेट मंत्री भी हैं।
  • सुषमा स्वराज विपक्ष की पहली महिला नेता भी हैं।

सुषमा स्वराज का निधन – Sushma Swaraj Death :-

सुषमा स्वराज का 6 अगस्त 2019 में 67 साल की उम्र में दिल का दौरा पड़ने से मृत्यु हो गई

यह भी जरुर पढ़े :-

About the author

Srushti Tapase

मेरा नाम सृष्टि तपासे है और मै प्यारी ख़बर की Co-Founder हूं | इस ब्लॉग पर आपको Motivational Story, Essay, Speech, अनमोल विचार , प्रेरणादायक कहानी पढ़ने के लिए मिलेगी |
आपके सहयोग से मै अच्छी जानकारी लिखने की कोशिश करुँगी | अगर आपको भी कोई जानकारी लिखनी है तो आप हमारे ब्लॉग पर लिख सकते हो |

Leave a Comment

error: Content is protected !!