BIOGRAPHY

भारत के प्रखर बिजनेसमैन विजय माल्या का जीवन परिचय Vijay Mallya Biography In Hindi

Vijay Mallya Biography In Hindi विजय माल्या एक समय में भारतीय उद्योगपतियों में अपना नाम सबसे पहली पंक्ति में दर्ज कराते थे, किन्तु साल 2012 में आर्थिक स्कैंडल में संलग्न होने की वजह से इनकी साख़ भारत में पहले की तरह नहीं रह पायी है. इसके साथ वे भारत की फार्मूला वन टीम सहारा फ़ोर्स के सह-मालक भी है. इसके साथ-साथ माल्या इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के ‘रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर”, I-League टीमों जैसे मोहन बागान AC और ईस्ट बंगाल FC के भी मालिक हैं. इसके साथ ही वे FIA के विश्व मोटर स्पोर्ट कौंसिल के सदस्य भी है और भारत का प्रतिनिधित्व भी करते है.विजय माल्या एक भारतीय व्यवसायी और राजनेता हैं. वे यू बी ग्रुप के अध्यक्ष हैं जिसका कारोबार शराब, उड्डयन, उर्वरक और रियल एस्टेट जैसे क्षेत्रों में फैला हुआ है. विजय माल्या यूनाइटेड स्पिरिट लिमिटेड के भूतपूर्व चेयरमैन रह चुके हैं, जो कि भारत की सबसे बड़ी शराब कंपनी है.

Vijay Mallya Biography In Hindi

विजय माल्या का जीवन परिचय Vijay Mallya Biography In Hindi

विजय माल्या का जन्म और शिक्षा (Vijay Mallya born and education)-

विजय माल्या का जन्म 18 दिसम्बर सन 1955 को पश्चिम बंगाल के कोलकाता शहर में हुआ.  इनकी माता का नाम ललिता रमैया था. विट्टल माल्या अपने समय में यूनाइटेड ब्रेवेरी ग्रुप के चेयरमैन थे. वे कर्नाटक में मंगलौर के बँटवाल शहर से हैं. उनकी प्रारंभिक शिक्षा कोलकाता के ला मार्टिनियर बॉयज़ कॉलेज से हुई और सेंट जेवियर कॉलेज, कोलकाता, (कोलकाता विश्वविद्यालय) से उन्होंने डिग्री की पढाई की. इसके बाद इन्होंने सैंट ज़ेवियर कॉलेज से कॉमर्स में होनौर्स के साथ स्नातक की पढाई पूरी की. अपने कॉलेज के दौरान विजय माल्या ने अपने पारिवारिक व्यापार में इंटर्न के तौर पर कार्य किया.

1986 में, उनकी मुलाकात एयर इंडिया की एयर होस्टेस समीरा तैयबजी से हुई और उन्हीसे बाद में उन्होंने शादी भी कर ली. उनके बेटे, सिद्धार्थ माल्या का जन्म 7 मई 1987 को हुआ. लेकिन बाद में कुछ ही समय बाद उनका तलाख हो गया. जून 1993 में माल्या ने रेखा से शादी कर ली, लेकिन रेखा का भी तलाख हो चूका था, माल्या रेखा को बचपन से ही जानते थे क्योकि वह उनके पड़ोस में ही रहती थी.

विजय माल्या का व्यक्तिगत जीवन –

वर्ष 1973 में अपने पिता की अकस्मात् मृत्यु के बाद विजय मात्र 28 साल के उम्र में UB ग्रुप के अध्यक्ष बन गए.  तब से लेकर अब तक UB ग्रुप एक बहुराष्ट्रीय समूह की तरह उभरा है जिसके अंतर्गत लगभग 60 कंपनियां हैं. अपने दुसरे ग्रुप UB ग्रुप के तहत माल्या ने बहोत सी दूसरी कंपनियों को भी अधिग्रहित कर लिया था. और अपना ज्यादा से ज्यादा ध्यान वे अपने सबसे सफल व्यवसाय शराब के व्यवसाय पर देने लगे. विजय ने समूह के तमाम कंपनियों को मजबूत बनाया और घाटे में चल रही कंपनियों को या तो बेच दिया या बंद कर दिया. इसके बाद उन्होंने 1990 में मंगलोर केमिकल और फ़र्टिलाइज़र को भी हासिल कर लिया और बाद में एशियाई अखबार और फिल्म पब्लिशर पत्रिका, सिने बिट्स को भी उन्होंने 2001 में हथिया लिया था.

करियर-

एक व्यापारिक परिवार से आने की वजह से माल्या को व्यापार की ख़ूब जानकारी हुई. सन 1983 में सिर्फ 28 वर्ष की अवस्था में विजय माल्या को यूनाइटेड ब्रेवेरिएस ग्रुप का चेयरमैन बनाया गया. माल्या को निजी तौर पर खेल-कूद में बहुत दिलचस्पी है. मोटरस्पोर्ट से उनका ख़ास लगाव है. 1970 और 1980 के दशक में तो उन्होंने कई ट्रैक रेसिंग प्रतियोगितायों में हिस्सा भी लिया. वे शोलावरम ग्रां प्री (1980/1981) और कोलकाता ग्रां प्री (1979) के विजेता भी रहे. विजय माल्या की बियर कंपनी किंगफ़िशर भारत में पिए जाने बियर में लगभग आधे की हिस्सेदारी रखता है, तथा साथ ही भारत के बाहर लगभग 52 देशों में किंगफ़िशर बियर पीने वाले लोग मौजूद हैं.

माल्या अपने राज्य कर्नाटक से राज्य सभा के सांसद भी हैं और संसद के कई महत्वपूर्ण समितियों के सदस्य भी रह चुके हैं.सन 2005 में विजय माल्या ने किंगफ़िशर एयर लाइन्स की स्थापना की. ये विजय माल्या के व्यापार का सबसे बड़ा रूप था. हालाँकि जल्द ही इसका दिवालिया निकाल गया था इसे बंद करना पड़ा.

विजय माल्या का राजनैतिक करियर- 

विजय माल्या सबसे पहले अखिल भारतीय जनता दल में शामिल हुए, जो सुभ्रमंयम स्वामी के साथ सन 2003 में जनता पार्टी में आ गये. सन 2010 में ये पार्टी के राष्ट्रीय कार्यकारिणी के अध्यक्ष भी रहे. सन 2002 में कांग्रेस का साथ पाकर ये कर्नाटक से राज्यसभा सदस्य के रूप में मनोनीत किये गये. दूसरी बार इन्हें भारतीय जनता पार्टी का साथ मिला और ये पुनः राज्यसभा सांसद मनोनीत किये गये.

विजय माल्या के अवार्ड्स – Vijay Mallya Awards :-

  1.  1997 में दक्षिणी कैलिफ़ोर्निया विश्वविद्यालय ने बिज़नस एडमिनिस्ट्रेशन ऑफ़ फिलोसोफी के लिये उन्हें डॉक्टरेट की उपाधि का सम्मान दिया गया.
  2. फ्रांस का सबसे प्रसिद्ध अवार्ड “Officer De La Legion D’Honneur” दिया गया.
  3.  वर्ल्ड इकनोमिक फोरम ने उन्हें “कल का वैश्विक नेता” बताया.
  4. 2010 के द एशियाई अवार्ड्स में उन्हें “साल का सर्वश्रेष्ट उद्योगपति” का सम्मान दिया गया.

यह भी जरुर पढ़े :-

About the author

Srushti Tapase

मेरा नाम सृष्टि तपासे है और मै प्यारी ख़बर की Co-Founder हूं | इस ब्लॉग पर आपको Motivational Story, Essay, Speech, अनमोल विचार , प्रेरणादायक कहानी पढ़ने के लिए मिलेगी |
आपके सहयोग से मै अच्छी जानकारी लिखने की कोशिश करुँगी | अगर आपको भी कोई जानकारी लिखनी है तो आप हमारे ब्लॉग पर लिख सकते हो |

Leave a Comment

error: Content is protected !!